पिता अपने बेटे को न्याय दिलाने के लिए दर दर भटक रहा है पिता न्याय के लिए तमाम उच्च अधिकारियों के दरवाजे भी खटखटाए, लेकिन न्याय नहीं मिला। पीड़ित पिता ने अब अदालत कि शरण ली है।

Crime 18-08-2021 07:09 PM 400

- सुल्तानपुर जिले के थाना कूरेभार छेत्र सरैया मझौआ के पाठक का पुरवा से बड़ी खबर

- 18 दिनो से डीप फ्रीजर में रखा हुआ है एक बेटे का शव


सुलतानपुर शिवांक ने अपने छोटे भाई इशांक को बताया कि भाई मेरी हत्या हो जाएगी मुझे फंसाने की साजिश रची जा रही है मुझे बचा लो आखरी कॉल दिल्ली में रहने वाले बड़े भाई शिवांक ने अपने छोटे भाई इशांक से फोन के माध्यम से बताई थी इस फोन के बाद तकरीब 15 दिनों के अंदर घटना घट जाती हैं शिवांक ने जताई थी हत्या की आशंका 1 अगस्त को संदिग्ध हालत में हो जाती है दिल्ली में मौत। मौत की सूचना परिवार जनों को देर से मिलती है। और इसी बीच बॉडी का पोस्टमार्टम भी करवा दिया गया बेटे की हुई मौत की जांच जब दिल्ली पुलिस ने अनसुना कर दिया तब पिता शव लेकर गांव चलाया और घर पर ही डीप फ्रीजर खरीदकर शव को रख दिया सेना से रिटायर्ड पिता थाने से लेकर उच्च अधिकारियों तक बेटे की मौत की जांच की और शव का दोबारा पोस्टमार्टम कराने की मांग करता रहा। लेकिन किसी ने इसे गंभीरता से नहीं लिया आलम यह है कि 17 दिनों से घर पर ही शव डीप फ्रिजर में रखा हुआ है

कूरेभार थाना क्षेत्र के सरैया मझौआ के पाठक का पुरवा गांव का निवासी शिव प्रसाद पाठक सेना में सूबेदार थे रिटायर होने के बाद वह गांव आ गए शिव प्रसाद पाठक ने परिवार में पत्नी के साथ ही दो बेटे शिवांक इशांक और दो बेटी सुनीता व पूनम है पिता ने दोनों बेटी की शादी कर दी है बड़ा बेटा शिवांग दिल्ली में वर्ष 2012 में एक कॉल सेंटर में नौकरी करता था उसके बाद 2012 में ही टैक्सीगो नामक कंपनी खोली कंपनी के पार्टनर ने दिल्ली की ही रहने वाली एक युवती गुरलीन कौर एच आर के पद पर नियुक्त किया था शिव प्रसाद पाठक के अनुसार शिवांक ने युवती के साथ वर्ष 2013 में शादी कर ली थी पिता का आरोप है कि कंपनी को मुनाफा होने पर पत्नी शिवांक पर कंपनी में अपने पिता और भाई को पार्टनर बनाने का दबाव बनाने लगी दबाव में आकर शिवांक ने दो फ्लैट पत्नी के नाम कर दिया और एक कीमती कार व लगभग ढेर सारी कीमती के आभूषण भी उसे दे दिया यह सब देने के बाद भी शिवांक के नाम पर काफी संपत्ति थी जिस पर युवती और उनके परिजनों की नजर थी लगभग 19 जुलाई 2021 को शिवांक ने गांव में अपने छोटे भाई ईशाक के पास फोन करके अपनी हत्या की आशंका जताते हुए। पूरी बात बताई थी इस पूरी बातचीत की रिकॉर्डिंग इशांक के पास मौजूद है छोटे भाई इशांक के अनुसार 1 अगस्त को दिल्ली में उसके भाई शिवांक पाठक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो जाती है सूबेदार शिवप्रसाद पाठक ने बताया कि बेटे की मौत की सूचना उनके दमाद ने दी थी तो वह अपने छोटे बेटे ईशाक के साथ दिल्ली पहुंचे और बेटे की हत्या किए जाने की तहरीर एस एच ओ बेगमपुर दिल्ली को दिया लेकिन दिल्ली पुलिस ने केस नहीं दर्ज किया।शव पोस्टमार्टम होने के बाद उन्हें सौंप दिया गया

इसके बाद परिवार जनों ने शिवांक का शव लेकर 3 अगस्त को गांव आ गए बेटे की मौत से पर्दा उठाने के लिए पिता ने कूरेभार थाने की पुलिस को सूचना देते हुए दोबारा पोस्टमार्टम कराए जाने की बात कही। लेकिन उनकी एक न सुनी गई इसके इसके बाद पिता ने खुद ही डीप फ्रीजर खरीद कर घर पर ले आए और उसमें अपने जिगर के टुकड़े का शव रखकर इंसाफ की गुहार लगाना शुरू कर दिया 3 अगस्त से लेकर अभी तक लगातार रिटायर्ड सूबेदार शिवप्रसाद पाठक ने स्थानीय थाना एसपी और डीएम को दोबारा पोस्टमार्टम कराने और जुर्म के खिलाफ केस दर्ज कराने की मांग करते रहे लेकिन उनकी एक न सुनी गई तब एक पिता ने न्याय के लिए दीवानी की शरण ली है इस मामले में सुल्तानपुर के पुलिस अधीक्षक विपिन कुमार मिश्रा ने बताया कि कोई घटनाक्रम यहां का नहीं है क्योंकि मामला अदालत में है लिहाजा मैं इस मामले में कोर्ट का इंतजार कर रहा हूं जैसे ही कोई फैसला आता है तुरंत कार्रवाई की जाएगी


मृतक


मृतक के पिता